ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है, OS के उद्देश्य, प्रकार, कार्य फायदे पूरी जानकारी [2022]

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या हैं ? 

इस पोस्ट में आप जानेंगे की ऑपरेटिंग सिस्टम क्या हैं ऑपरेटिंग सिस्टम कैसे कम करता हैं ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार कौन कौन से हैं और साथ ऑपरेटिंग सिस्टम के उद्देश्य और ऑपरेटिंग सिस्टम से जुडी अन्य महत्वपूर्ण जानकरी को इस लेख में बताया गया हैं | यदि आप कंप्यूटर के फिल्ड में जुड़े हो या आपको कोप्मुटर से जुडी कोई भी परीक्षा देनी हो आपको ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में पता होना ही चाहिए | 

OPERATING SYSTEM से जुड़े कई प्रश्न परीक्षा में पूछे जाते हैं यदि आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ते हैं तो आपको ऑपरेटिंग सिस्टम से जुडी सभी महत्वपूर्ण सवालों के जवाब मिल जायेंगे | 

ऑपरेटिंग सिस्टम का परिचय (INTRODUCTION OF OPERATING SYSTEM ) 

ऑपरेटिंग सिस्टम आपके कम्प्यूटर में लोड किया जाने वाला पहला सॉफ्टवेयर होता है। यह आपके कम्प्यूटर पर बहुत सारे कार्य करता है और आपको आपकी पसंद का ऐप्लीकेशन को आरम्भ करने में मदद करता है। यह सॉफ्टवेयर कई प्रकार के होते हैं। अलग-अलग प्रकार के कम्प्यूटरों में अलग-अलग प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग होता है। यह अध्याय इस अपरिहार्य प्रोग्राम के बारे में हर सम्भव जानकारी प्रदान करता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम (OPERATING SYSTEM) 

एक ऑपरेटिंग सिस्टम किसी कम्प्यूटर प्रणाली का ऐसा सॉफ्टवेयर कम्पोनेन्ट होता है, जो गतिविधियों के प्रबंधन तथा संचालन तथा कम्प्यूटर के संसाधनों की साझेदारी के लिए उत्तरदायी होता है। आपरेटिंग सिस्टम उन ऐप्लीकेशन प्रोग्रामों के लिए होस्ट की भूमिका निभाता है, जिन्हें उस मशीन पर संचालित किया जाना है। होस्ट के रूप में किसी ऑपरेटिंग सिस्टम का एक उद्देश्य हार्डवेयर के ऑपरेशन के विवरणों को हैंडल करना है। इससे ऐप्लीकेशन प्रोग्रामों को इन विवरणों के प्रबन्धन से मुक्ति मिल जाती है तथा ऐप्लीकेशन को लिखना आसान हो जाता है। 

Mobile में उपयोग होने वाले OS का नाम है Android जिसके बारे में सबको पता है. आपको पता चल गया होगा के Operating System क्या है, तो चलिए इसके कुछ काम के बारे में जान लेते है.

लगभग सारे कम्प्यूटर जैसे कि हैण्ड-हेल्ड (land held) कम्प्यूटर, डेस्कटॉप कम्प्यूटर, सुपर कम्प्यूटर, यहाँ तक कि आधुनिक वीडियो गेम कंसोल, किसी न किसी प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग करते हैं। पुराने मॉडलों में से कुछ इम्बेडेड OS का भी प्रयोग कर सकते हैं, जिन्हें कॉम्पैक्ट डिस्क या अन्य स्टोरेज डिवाइस में रखा जा सकता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम का उद्देश्य : (PURPOSE OF OPERATING SYSTEM) 

यदि आपके पास कम्प्यूटर है, तो आपने ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में अवश्य सुना होगा। आपके द्वारा खरीदा गया कोई भी डेस्कटॉप या लैपटॉप C पहले से ही Windows XP से लोड किया हुआ होता है। ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) कम्प्यूटर में लोड की जाने वाली पहली चीज है। ऑपरेटिंग सिस्टम के बगैर कम्प्यूटर बेकार होता है।

यहाँ हमने जाना ऑपरेटिंग सिस्टम का उद्देश्य क्या हैं चलिए अब जानते हैं की ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य (FUNCTIONS OF OPERATING SYSTEM) कौन कौन से और ऑपरेटिंग सिस्टम कार्य कैसे होता हैं-

ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य (FUNCTIONS OF OPERATING SYSTEM) 

जब आप किसी कम्प्यूटर में पावर ऑन करते हैं, तो सबसे पहले रन होने वाले प्रोग्रामों में सामान्यतः निर्देशों का ऐसा सेट होता है, जो कम्प्यूटर की रीड ऑनली मेमोरी (ROM) में रखा होता है। यह कोड यह देखने के लिए सिस्टम हार्डवेयर का परीक्षण करता है कि सब कुछ ठीक से काम कर रहा है। यह पावर ऑन सेल्फ टेस्ट (POST), CPU, मेमोरी तथा बेसिक इनपुट आउटपुट सिस्टम (BIOS) में त्रुटियों की जाँच करता है तथा परिणाम को एक विशेष मेमोरी लोकेशन में संग्रहित (store) करता है। 

एक बार POST के सफलतापूर्वक सम्पन्न हो जाने पर ROM में लोड किया हुआ सॉफ्टवेयर (जिसे कभी-कभी BIOS या Firmware कहा जाता है) कम्प्यूटर के डिस्क ड्राइवर को ऐक्टिवेट करने लगता है। अधिकांश आधुनिक कम्प्यूटरों में जब कम्प्यूटर हार्डडिस्क ड्राइव को ऐक्टिवेट कर देता है, तो इसे ऑपरेटिंग सिस्टम का पहला खंड बूटस्ट्रैप (bootstrap) लोडर प्राप्त होता है।

अब तक आप सभी जान ही गए होंगे की Operating System क्या क्या काम करता है (Function of Operating System in Hindi) तो चलिए अब जानते हैं की OS के कितने प्रकार होते हैं.

सिंगल यूजर मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम की (Single-user, Multi-tasking Operating System) 

इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग अधिकांश लोग अपने डेस्कटॉप और लैपटॉप कम्प्यूटरों पर करते हैं। माइक्रोसॉफ्ट का विण्डोज और एप्पल का MacOS प्लेटफॉर्म, दोनों ही ऐसे ऑपरेटिंग सिस्टमों के उदाहरण हैं, जो एक प्रयोक्ता को एक बार में कई प्रोग्राम ऑपरेशन में रखने की अनुमति देंगे। उदाहरण के लिए, एक विण्डोज यूजर के लिए इन्टरनेट से फाइल डाउनलोड करते समय तथा किसी ई-मेल मेसेज का टेक्स्ट प्रिन्ट करते समय किसी वर्ड प्रोसेसर में कोई नोट लिखते जाना पूर्णतः संभव है। विण्डोज 95 और 98 इस वर्ग के कुछ और उदाहरण हैं।

मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम (Multi-user Operating System) 

एक मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम बहुत-से अलग-अलग प्रयोक्ताओं को एक साथ कम्प्यूटर के रिसोर्सेज का उपयोग करने की क्षमता प्रदान करता है। 

ऑपरेटिंग सिस्टम को इस बात को सुनिश्चित करना चाहिए कि विभिन्न प्रयोक्ताओं की जरूरतें संतुलित हों तथा उनके द्वारा प्रयोग किये जा रहे प्रत्येक प्रोग्राम के पास पर्याप्त और अलग संसाधन हों, ताकि एक प्रयोक्ता को किसी समस्या से प्रयोक्ताओं का पूरा समुदाय प्रभावित न हो। Unix, VMS और मेनफ्रेम ऑपरेटिंग सिस्टम, जैसे MVS, मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टमों के उदाहरण हैं। मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टमों के कुछ अन्य उदाहरण Limx, Unix और Windows. 2000 हैं।

अपने यहाँ जाना की ऑपरेटिंग सिस्टम क्या हैं ऑपरेटिंग सिस्टम कैसे कम करता हैं ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार कौन कौन से हैं और साथ ऑपरेटिंग सिस्टम के उद्देश्य और ऑपरेटिंग सिस्टम से जुडी अन्य महत्वपूर्ण जानकरी को शेयर जरुर करें | 

Operating System के विभिन्न प्रकार – Types of Operating System in Hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार – Types Of Operating System in Hindi

  • Batch Operating System
  • Simple Batch Operating System
  • Multiprogramming Batch Operating System
  • Network Operating System
  • Multiprocessor Operating System
  • Distributed Operating System
  • Time-Sharing Operating System
  • Real-Time Operating System

1. Multi-user Operating System

यह Operating System एक से अधिक उपयोगकर्ताओं को एक साथ कार्य करने की सुविधा प्रदान करता है. इस Operating System पर एक समय में सैकड़ों उपयोगकर्ता अपना-अपना कार्य कर सकते है.

2. Single-user Operating System

इसके विपरीत Single-user Operating System एक समय में सिर्फ एक ही उपयोगकर्ता को कार्य करने देता है. इस Operating System पर एक समय में कई उपयोगकर्ता कार्य नही कर सकते है.

3. Multitasking Operating System

Operating System उपयोगकर्ता को एक साथ कई अलग-अलग प्रोग्राम्स को चलाने की सुविधा देता है. इस Operating System पर आप एक समय में E-mail भी लिख सकते है और साथ ही अपने मित्रों से Chat भी कर सकते है.

4. Multi Processing Operating System

यह Operating System एक प्रोग्राम को एक से अधिक CPU पर चलाने की सुविधा देता है.

5. Multi Threading Operating System

यह Operating System एक प्रोग्राम के विभिन्न भागों को एक साथ चलाने देता है.

6. Real Time Operating System

Real Time Operating System उपयोगकर्ता द्वारा दिए गए Input पर तुरंत प्रक्रिया करता है. Windows Operating System इसका सबसे अच्छा उदाहरण है.

ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएँ – Characteristics of Operating System in Hindi

  • Primary Memory को Track करता है. जैसे, कहाँ इस्तेमाल हो रही है? कितनी मैमोरी इस्तेमाल हो रही है? और मांगने पर मैमोरी उपलब्ध करवाता है.
  • Processor का ध्यान रखता है अर्थात Manage करता हैं.
  • कम्प्युटर से जुडे हुए सभी डिवाइसों को मैंनेज करता हैं.
  • कम्प्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर दोनों को मैंनेज करता हैं.
  • पासवर्ड तथा अन्य तकनीकों के माध्यम से सुरक्षा प्रदान करता हैं.
  • कम्प्यूटर द्वारा किये जाने वाले कार्यों का ध्यान रखता है और उनका रिकॉर्ड रखता हैं.
  • Errors और खतरों से अवगत कराता हैं.
  • User और Computer Programs के बीच समन्वय बनाता हैं.

प्रमुख ऑपरेटिंग सिस्टम के नाम

मार्केट में अनेक प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम हैं जिनका इस्तेमाल अलग – अलग डिवाइस में किया जाता है. कुछ Popular Operating System के उदाहरण निम्न प्रकार से हैं –

  • Windows OS
  • Mac OS
  • Linux OS
  • Ubuntu
  • Android OS
  • iOS
  • MS-DOS
  • Symbian OS

ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण (Example of Operating System in Hindi)

  • Microsoft Windows (माइक्रोसॉफ्ट विंडोज)
  • Google Android (गूगल एंड्राइड)
  • Apple IOS (एप्पल आईओएस)
  • Apple MacOS (एप्पल मैकओएस)
  • Linux Operating System (लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम)

ऑपरेटिंग सिस्टम के फायदे (Advantage of Operating System in Hindi)

ऑपरेटिंग सिस्टम के फायदे निम्न हैं –
  • ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा हम Data को अन्य यूजर के साथ भी शेयर कर सकते हैं.
  • इन्हें आसानी से अपडेट किया जा सकता है.
  • ऑपरेटिंग सिस्टम सुरक्षित होते हैं और हानिकारक File को Detect करके Remove कर देते हैं.
  • ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा हम अपने कंप्यूटर में अन्य सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन को इनस्टॉल कर सकते हैं और उनका इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • कुछ Operating System का इस्तेमाल फ्री में भी कर सकते हैं.

ऑपरेटिंग सिस्टम के नुकसान (Disadvantage of Operating System in Hindi)

  • Windows ऑपरेटिंग सिस्टम की कीमत 100 से 150$ तक होती है.
  • Windows की तुलना में Linux का इस्तेमाल करना कठिन है.
  • कभी – कभी ऑपरेटिंग सिस्टम कुछ हार्डवेयर को Support नहीं करते हैं.
FAQS
1.ऑपरेटिंग सिस्टम कौन सा सॉफ्टवेयर होता है?
ऑपरेटिंग सिस्टम एक सिस्टम सॉफ्टवेयर होता है.
2.ऑपरेटिंग सिस्टम का दूसरा नाम क्या है?
ऑपरेटिंग सिस्टम का दूसरा नाम OS है.
3.मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम का उदाहरण कौन सा है?
Android, iOS, Windows Mobile और Symbian.

अन्य पोस्ट पढ़ें- 

कम्प्यूटर की विशेषताएँ | Characteristics of Computer in Hindi 2022

इंटरनेट पर उपलब्ध सेवाएँ (Services available on Internet)

Leave a Comment